अनोखी शादी: ना बराती आये, न पंडित और बिना बैंड बाजे के हुई इनकी शादी, ये थी वजह

भारत में शादी का मतलब दो लोगों का नहीं बल्कि दो परिवारों और खानदान का मिलन माना जाता है. दुल्हा-दुल्हन से ज्यादा उनके परिवार वालों के बारे में बातें होती हैं और फिर दान, दहेज और शादी में हुई व्यवस्था को देखा जाता है. इनके बारे में समाज के लोग बातें करते हैं और जिन्हें ज्यादा दहेज मिलता है उनकी ही शान मानी जाती है. हमारा समाज ऐसी ही शादियों को स्वीकारता और इन्हीं से खुश रहता है लेकिन आज हम आपको ऐसी एक शादी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें ना बाराती शामिल हुए, ना दान-दहेज लिया या दिया गया और ना ही कोई विशेष व्यवस्था रखी गई थी. आमतौर पर दहेज की बात पर कई शादियां टूटती हैं लेकिन यहां पर लड़के औऱ लड़की वालों ने पहले ही तय कर लिया था कि ना कोई दहेज का लेन-देन होगा और ना कोई बड़ी चीज नेक या तोहफे में ली-दी जाएगी. ना बराती आये, न पंडित और बिना बैंड बाजे के हुई इनकी शादी, इसके पीछे की वजह जानकर आप भी हैरान रह जाएगे.

ना बराती आये, न पंडित और बिना बैंड बाजे के हुई इनकी शादी

पंजाब के जलंधर स्थित आदमपुर गांव के पास एक ऐसी शादी हुई जिसमें सभी रस्मों को किनारे रखते हुए एक लड़की को अपना बना लिया. आदमपुर के पास एक छोटा सा गांव चूली खुर्द है जहां के रहने वाले छोटूराम खोखर और संतोष (महिला का नाम है) के बेटे बलेंद्र शास्त्री ने खैरमपुर निवासी जेलदार उर्फ भजनलाल की बेटी कांता के साथ शादी कर ली. एमए पास बलेंद्र की पत्नी कांता अभी ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रही हैं. यह शादी 13 रात तारिख की रात संपन्न हुई जिसमें बलेंद्र के पिता छोटूराम, चाचा टेकचंद, बहन पुष्पा, बहनोई बलवंत और रामनिवास के साथ एक-दो और खास बाराती ही आए और लड़की वालों की तरफ से भी बहुत चुनिंदा लोग शामिल हुए थे. इस शादी में ना कोई खास लाइट और ना कोई खास व्यंजन की व्यवस्था थी वजह यह थी कि लड़के ने पहले ही बोल दिया था कि उन्हें सिर्फ लड़की चाहिए और सवा रुपये और नारियल शगुन के तौर पर दिया जाए. इसके अलावा उन्हें कुछ भी नहीं चाहिए. यह शादी पंचायत समिति सदस्य सतपाल चूलियन और उनके साथियों के सामने हुई और उन्हों ने बताया कि सगाई के दौरान ही तय हो गया था कि वर पक्ष की ओर से कुछ भी लेन और देन नहीं रखा गया था.

सोशल मीडिया पर छा गया दुल्हा

सतपाल चूलियन ने सोशल मीडिया पर इस अनोखी शादी की एक तस्वीर शेयर करते हुए बताया कि जब उन्होंने इस अनोखी शादी का पोस्ट सोशल मीडिया पर शेयर किया तो हजारों लोगों ने दुल्हे के इस जज्बे को सलाम किया. इस शादी की खूब चर्चा हो रही है और दूल्हा-दुल्हन को बधाईयां भी दी जा रही हैं. उन्होंने आगे बताया कि अगर भारत का हर लड़का ऐसा करने लगे तो किसी को उनकी बेटी बोझ नहीं लगेगी और हर कोई अपनी शादी शुदा जिंदगी में खुश रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *