ये है देवी सरस्वती के 5 प्रमुख और चमत्कारिक मंदिर, जहां माता करती हैं ज्ञान प्रदान

देवी सरस्वती को ज्ञान और बुद्धि की देवी माना जाता है ऐसा कहा जाता है कि देवी सरस्वती की आराधना से व्यक्ति को बुद्धि और ज्ञान की प्राप्ति होती है विशेष रूप से वसंत पंचमी के दिन माता सरस्वती जी की पूजा होती है इस दिन सभी लोग अपनी पूरी श्रद्धा के साथ माता सरस्वती जी की पूजा आराधना करते हैं और इनका आशीर्वाद प्राप्त करते हैं आज हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से देवी सरस्वती जी के ऐसे पांच मंदिरों के बारे में जानकारी देने वाले हैं जो दुनिया भर में काफी प्रसिद्ध है अगर आप इन मंदिरों में वसंत पंचमी के दिन जाते हैं तो यह बहुत ही शुभकारी माना गया है।

आइए जानते हैं देवी सरस्वती के इन मंदिरों के बारे में

पनाचिक्कड़ सरस्वती मंदिर

यह केरल का एकमात्र ऐसा मंदिर है जो देवी सरस्वती जी को समर्पित है इस मंदिर को दक्षिण मूकाम्बिका के नाम से भी लोग जानते हैं यह मंदिर चिंगावनम के पास मौजूद है ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर को किझेप्पुरम नंबूदिरी ने स्थापित किया था उन्होंने इस प्रतिमा को ढूंढा और इसे पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके स्थापित किया था पश्चिम की तरफ मुख करके एक और प्रतिमा की स्थापना की गई थी परंतु उसका कोई आकार नहीं है इस प्रतिमा के पास एक दिया हर समय प्रज्वलित होता रहता है।

श्रृंगेरी मंदिर

इस जगह का शारदा मंदिर भी लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है इस मंदिर को शरादाम्बा मंदिर के नाम से भी लोग जानते हैं ज्ञान और कला की देवी को समर्पित यह मंदिर आचार्य श्री शंकर भागावात्पदा द्वारा सातवीं शताब्दी में बनवाया गया था किंवदंतियों के अनुसार ऐसा बताया जाता है कि 14 वीं शताब्दी के दौरान इष्टदेव की चंदन की प्राचीन प्रतिमा को सोने और पत्थर से अंकित कर के प्रति स्थापित करवाया गया था।

वारंगल श्री विद्या सरस्वती मंदिर

माता सरस्वती जी का यह मंदिर आंध्र प्रदेश के मेंढक जिले के वारंगल में स्थित है हंस वाहिनी विद्या सरस्वती मंदिर में माता सरस्वती जी की पूजा आराधना होती है कांची शंकर मठ इस मंदिर का रखरखाव करता है इसी जगह पर अन्य देवी देवताओं के मंदिर जैसे श्री लक्ष्मी गणपति मंदिर भगवान शनीश्वर मंदिर और भगवान शिव मंदिर निर्मित है।

सरस्वती मंदिर पुष्कर

 

देवी सरस्वती जी का यह मंदिर दुनिया भर में काफी प्रसिद्ध है देवी माता का यह मंदिर राजस्थान के पुष्कर में मौजूद है यह अपने ब्रह्मा मंदिर के लिए भी मशहूर है वहीं विद्या की देवी माता सरस्वती जी का भी प्रसिद्ध मंदिर इसी स्थान पर है माता सरस्वती जी का प्रमाण नदी के रूप में मिलता है इन्हें उर्वरता और शुद्धता का प्रतीक माना गया है।

श्री ज्ञान सरस्वती मंदिर

देवी सरस्वती जी के बहुत से प्रसिद्ध मंदिर है और इन्हीं प्रसिद्ध मंदिरों में से एक आंध्र प्रदेश के आदिलाबाद जिले में मंदिर मौजूद है जिस मंदिर को बासर या बसरा के नाम से जाना जाता है इस स्थान में ज्ञान की देवी सरस्वती जी का मंदिर दुनियाभर में मशहूर है माता सरस्वती जी यहां ज्ञान प्रदान करती है माता का यह मंदिर गोदावरी नदी के तट पर स्थित है पौराणिक कथाओं के मुताबिक एक बार महाभारत युद्ध के पश्चात ऋषि व्यास शांति की तलाश में निकल पड़े थे वह घूमते घूमते गोदावरी नदी के किनारे कुमारचला पहाड़ी पर पहुंच गए और वहां पर उन्होंने देवी की आराधना की थी उनकी आराधना से प्रसन्न होकर देवी ने उनको दर्शन दिए थे देवी के आदेशानुसार उन्होंने प्रतिदिन तीन जगह तीन मुट्ठी रेत रखी थी और माता के चमत्कार से यह रेत के ढेर तीन देवियों की प्रतिमा में बदल गई थी जो सरस्वती, लक्ष्मी, काली के नाम से जानी जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Place this code at the end of your tag: