भूल से भी ये 3 राशि वाले जातक न पहने कछुए की अंगूठी, वरना हो जाएंगे कंगाल

आज के समय में हर कोई चाहता है कि वो अमीर बन जाए इसके लिए व्‍यक्ति लगातार मेहनत करता है लेकिन कई बार ऐसा होता हे कि उसके मेहनत करने के बावजूद व्‍यक्ति के अमीर बनने का सपना पूरा नहीं हो पता है। वहीं ये बात भी सच है कि इस दुनिया का हर इंसान का सपना होता है कि वो अमीर बने। हर एक व्यक्ति चाहता है कि वो आराम की जिंदगी जीये। आराम की जिंदगी जीना और पैसा पाने के लिए कई लोग कई तरह के तरीके भी अपनाते हैं लेकिन आज हम आपको एक शानदार तरीका बताने जा रहे है जो वाकई में बेहद ही कारगर है।

दरअसल आजकल कछुए की डिजाइन वाली अंगूठी काफी चलन में है और ये बाजार में आसानी से मिल भी जाती हैं। आज हम आपको इसी से संबंधित कुछ जानकारी देने जा रहे हैं जो बेहद ही जरूरी है। दरअसल आपको बता दें कि अगर आप भी इस तरह की अंगूठी लेने की सोच रहे हैं या फिर पहनते हैं तो आपके लिए ये खबर जरूरी है क्‍योंकि ज्‍योतिष शास्‍त्रों में बताया जाता है कि इन 3 राशियों को कछुए की अंगूठी बिल्कुल नहीं पहननी चाहिए ।

जी हां कई बार लोग अपने धनवान बनने के सपने को पूरा करने के लिए इन सभी वस्‍तुओं का सहारा लेता है जो कि उनके लिए कई बार नुकसान भी करता है। दरअसल कई बार ऐसा होता है की जो लोग ये उपाय करते हैं उनपर कभी कभी ये उल्टा असर भी कर देता है और तो और ये उपाय अच्छा फल देने के बजाय दुर्भाग्य का कारण बन जाता है।

दरअसल आपको बता दें कि वास्तुशास्त्र के अनुसार फेंगशुई और कछुआ दोनों ही घर में रखना बहुत शुभ माना जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि माना जाता है कि कछुए में सकारात्मक ऊर्जा बढ़ाने की शक्ति होती है। वहीं ज्योतिषशास्त्रों के अनुसार कछुआ भगवान विष्णु का अवतार भी माना जाता है।

समुद्र मंथन की पौराणिक कथा के अनुसार कछुआ समुद्र मंथन से उत्पन्न हुआ था और साथ ही देवी लक्ष्मी भी वहीं से आईं थीं। यही कारण है कि वास्तु शास्त्र में कछुए को इतना महत्व प्रदान किया जाता है। कहते है की कछुए की अंगूठी पेहेनते वक़्त यह ध्यान रखना चाहिए के कछुए का मुँह पेहेन्ने वाले की तरह हो, जिससे की धन उसकी ओर आये। माना जाता है के कछुआ माँ लक्ष्मी का प्रिय होता है।

माना जाता है के समुद्र मंथन के वक़्त माँ लक्ष्मी समुद्र में से प्रकट हुई थी, इसलिए कछुआ उन्हें पसंद है। इसके अलावा यह जीव धैर्य, शांति, निरंतरता और समृद्धि का भी प्रतीक है। इस वजह से इसकी अंगूठी धारण करने से शांति, निरंतरता और समृद्धि आती है। लेकिन वहीं ध्‍यान रहे कि कन्या राशि, वृश्चिक राशि और मीन राशि वाले जातको को भूलकर भी कभी कछुए की अंगूठी धारण नही करनी चाहिए। ऐसा माना जाता है के जो व्यक्ति इसे धारण करता है उसके पास कभी धन की कमी नहीं होती, भगवान विष्णु की कृपा दृष्टि हमेशा बानी रहती है।

ध्‍यान रहे कि कछुए वाली अंगूठी सामान्यत: चांदी से ही बनी हो। यदि आप किसी दूसरी धातु का प्रयोग करना चाहें जैसे कि सोना या कोई अन्य रत्न, तो कछुए के आकार को चांदी में बनवाकर उसके ऊपर सोने का डिजाइन या रत्न को जड़वा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.