गुलाब फूल के इस शक्तिशाली टोटके को आज ही करें समस्या का होगा समाधान तुरंत समाधान, मिलेगी सुख शांति

गुलाब से तो हर कोई परिचित है, सभी फूलों में उसको फूल का राजा का सम्मान प्राप्त है आज हम आपको गुलाब फूल के टोटके के बारे में बताएंगे जिस से आपके गंभीर समस्या का पूर्ण समाधान हो जाएगा.

गुलाब का खुशबू किसे नही पसन्द है  अत्यंत मनभावन गुलाब हर किसी के मन को हर्षित कर देता है अर्थात गुलाब देख कर उदास मन भी थोड़े देर के लिए प्रशन्न हो जाता हैं.

गुलाब फूल को प्रेम का प्रतीक भी माना जाता है , प्रेयसी को मनाने के लिए गुलाब का ही उपयोग होता है.

गुलाब के खुशबू से मन शांत होता है और मानसिक बेचैनी समाप्त होती है.

अब आपको बताते हैं गुलाब फूल के टोटके

मनोकामना पूर्ति के लिए

संकटनोचन हनुमान जी को किसी भी शुक्ल पक्ष के पहले मंगलवार को ताजे गुलाब के 11  फूल चढ़ायें.

ऐसा लगातार 11 मंगलवार तक करने पर हनुमान जी के कृपा से आप अपने मन मे जिस कार्य को रखें होंगे वह अवश्य पूर्ण हो जाएगी.

धन प्राप्ति हेतु

-पूर्णिमा या अमावश्या को शाम के समय 6 से 8 बजे के बीच गुलाब के फूल में देशी कपूर का टुकड़ा रखकर उसे जला दें.

कपूर के पूरा जल जाने के बाद उस फूल को माता लक्ष्मी को अर्पित कर दें माँ लक्ष्मी के आशीर्वाद से धन प्राप्ति का संयोग बनेगा.

समृद्धि के लिए

शुक्ल पक्ष के मंगलवार को लाल चंदन, 3 लाल गुलाब और रोली लेकर उन्हें एक लाल कपड़े में बांध लें, और उसे एक सप्ताह के लिए किसी मंदिर में रख दें.

फिर एक सप्ताह बाद उसे घर या दुकान जहाँ पैसा रखते हैं रख दें ऐसा करने से माता लक्ष्मी के कृपा से कभी भी धनकोष अर्थात तिजोरी खाली नही होगी.

आरोग्य हेतु अर्थात सेहतमंद रहने के लिए

अमावश्या के दिन एक देशी हरा पान, 2 गुलाब के फूल और 5 बताशे रोगी के

ऊपर से 31 बार सिर से पैर तक उतारें तथा उनको रात को 12 बजे किसी चौराहे पर रख दें.

ध्यान रहे इस बीच मौन रहे व डालने के बाद पीछे मुड़कर नही देखे ऐसा करने से जो बीमारी से ग्रसित हैं उनकी तबियत एकदम स्वस्थ हो जाएगी.

बच्चे के आरोग्य हेतु अर्थात अगर घर मे कोई बच्चा लगातार बीमार चल रहा है तो उसके स्वस्थ्य होने के लिए.

एक पान के पत्ते पर 1 बूंदी का लड्डू, 5 गुलाब के फूल रखकर बच्चे के ऊपर से 7

बार उतार कर चुपचाप किसी मंदिर में रखकर आ जाएं, शीघ्र ही बच्चा रोग मुक्त होगा.

कार्य बाधा दूर करने के लिए अर्थात आप कोई कार्य शुरू कर रहे हैं और उसमें अनेक रुकावट आ रही है तो.

पूर्णिमा के दिन सुबह 5 बजे स्नान आदि  करके 3 लाल गुलाब और 3 बेला या चमेली के फूल से निवृत्त होकर किसी नदी में विसर्जित करना चाहिए.

इस प्रयोग को 3 पूर्णिमा तक लगातार करने पर कार्य बाधा दूर हो जाएगी.

नौकरी हेतु

शुक्ल पक्ष के किसी भी मंगलवार से प्रारंभ करते हुए 40 दिनों तक रोज सुबह के समय नंगे पैर हनुमानजी के मंदिर में जाएं और उन्हें 1 लाल गुलाब का फूल चढ़ाएं.

शीघ्र ही आपके समस्या का समाधान निकल जायेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *