HomeUncategorizedगुरुवार को नहीं करने चाहिए ये 5 काम, वरना दुर्भाग्य और दरिद्रता...

गुरुवार को नहीं करने चाहिए ये 5 काम, वरना दुर्भाग्य और दरिद्रता नहीं छोड़ती जीवनभर पीछा

हिंदू धर्म में बृहस्पतिवार के दिन का विशेष महत्व है, ये दिन पूजा-अर्चना और शुभ कार्यो के लिए जाना जाता है। ऐसे में इस दिन जहां कुछ कार्यों को करना विशेष रूप से फलदायी होता है तो वहीं कुछ कार्यों को करने की मनाही होती है। दरअसल धार्मिक मान्यताओं की माने तो कुछ कार्यों का निषेध होने का कारण ये है कि, बृहस्पति ग्रह ब्रह्मांड के सभी नौ ग्रहों में से वजन में सबसे भारी ग्रह है। ऐस में इस दिन वो हर काम जिससे शरीर या घर में हल्कापन आता हो उसे करने से मना किया जाता है क्योंकि ऐसा करने से गुरु ग्रह का प्रभाव हल्का हो जाता है, वहीं गुरु ग्रह के कमजोर होने से शिक्षा में असफलता के साथ-साथ वैवाहिक जीवन में परेशानिया आती है, ऐसे में इस तरह के कार्यों को करने से परहेज करना ही बेहतर माना जाता है। चलिए अब उन कार्यों के बारे में जानते हैं जिन्हें बृहस्पतिवार के दिन करना निषेध है।

शास्त्रों में बृहस्पतिवार को महिलाओं को बाल धोने से मना किया गया है, क्योंकि महिलाओं की जन्मकुंडली में बृहस्पति पति और सौभाग्य का कारक होता है, साथ ही बृहस्पति ग्रह संतान का भी कारक होता है। वहीं बृहस्पतिवार को सिर धोने बृहस्पति कमजोर होता है जिससे उसका अशुभ प्रभाव महिला के पति, संतान और वैवाहिक जीवन पर पड़ता है। इसलिए महिलाओं को गुरुवार को बाल धुलने और काटने से मना किया गया है।

बृहस्पतिवार को नाखून काटने और पुरुषों को दाढ़ी बनवाने भी मना किया गया है, क्योंकि ज्योतिष में गुरु ग्रह को जीव कहा गया है। यहा जीव से मतलब जीवन और आयु से है । यानी के गुरू का मजबूत होना जातक के जीवन और लंबी आयु के लिए जरूरी है, वहीं गुरुवार के दिन नेल कटिंग और शेविंग जैसे काम करने से गुरु ग्रह को कमजोर करता है, जिससे जीवन शक्ति भी क्षीण होती है और इसके कारण व्यक्ति की आयु कम होती है ।

घर के ये कार्य भी बृहस्पति को करते हैं कमजोर

वहीं गुरुवार को शारीरिक कार्यों के साथ ही कुछ घरेलु कार्यो को करने की भी मनाही होती है, जैसे कि घर में अधिक वजन वाले कपड़ों को धोना, घर से कबाड़बाहर निकालना, घर की साफ-सफाई और पोछा लगाना। इन सभी कार्यों से बृहस्पति के शुभ प्रभाव में कमी आती है और जातक को बृहस्पति जनित दुखों का सामना करना पड़ सकता है।

दरअसल जन्मकुंडली में बृहस्पति के मजबूत होने से जीवन में सफलता और उन्नति के रास्ते आसानी से खुलते हैं। पर वहीं अगर बृहस्पति ग्रह को कमजोर करने वाले कार्य किए जाए तो इससे जीवन में सफलता के मार्ग अवरूद्ध होने लगते हैं और बृहस्पति के दीन सिर धोना, कपड़े धोना, बाल कटवाना, शेविंग करवाना, शरीर से बालों को साफ करना, फेशियल करवाना, नाखून काटना, घर की साफ-सफाई, मकड़ी के जाले साफ करना आदी ऐसे कार्य हैं जो कि बृहस्पति को कमजोर करते हैं, जिसके कारण धन हानि होती है।

ज्योतिष के अनुसार किसी भी व्यक्ति के जन्मकुंडली में दूसरा और ग्यारहवां भाव धन के स्थान होते हैं। जबकि गुरु ग्रह इन दोनों ही स्थानों का कारक ग्रह होता है। ऐसे में बृहस्पति के दिन को बृहस्पति ग्रह को कमजोर करने वाले काम करने से धन हानि का सम्भावनाएं बढ़ जाती है।

वहीं अगर इस दिन लक्ष्मी और नारायण का एक साथ पूजन किया जाए तो इससे जीवन में खुशियों का आगमन होता है। साथ ही बृहस्पति के दिन लक्ष्मी नारायण की पूजन एक साथ करने से दाम्पत्य जीवन बेहतर होता है और पति-पत्नी के बीच की दूरियां कम होती हैं।