Home Uncategorized इन 9 खास बातों का ध्यान रखकर ही घर में बनवाएं मंदिर,...

इन 9 खास बातों का ध्यान रखकर ही घर में बनवाएं मंदिर, जल्दी ही हो जाएंगे मालामाल

भारत में ना जाने कितने धर्म और जाति के लोग रहते हैं. हर धर्म और जाति का अपना अलग नियम और कायदे होते हैं, वे सभी उन्हीं पथ पर चलते हैं. मगर हिंदू धर्म में हर घर में मंदिर जरूर होता है जिसकी पूजा वे सुबह और शाम करते हैं. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बहुत सी ऐसी विधि है जिनके करने से हर तरह की विपदाएं दूर होकर आपके परिवार या कार्यस्थल में बरक्कत होती है लेकिन कभी-कभी हम कुछ अनजाने में गलतियां कर देते हैं जिसका खामियाजा हमें आर्थिक तौर पर भुगतना पड़ता है. वास्तु और शास्त्रों के अनुसार घर में मंदिर बनवाने के अलग-अलग नियम बताए गए हैं लेकिन हम आपके लिए कुछ खास लेकर आए हैं, इन 9 खास बातों का ध्यान रखकर ही घर में बनवाएं मंदिर. अगर आपने इन नियमों को माना तो भगवान की कृपा से आप जल्दी ही मालामाल हो सकते हैं.

इन 9 खास बातों का ध्यान रखकर ही घर में बनवाएं मंदिर

हिन्दू धर्म के अनुसार हर घर में मंदिर होना चाहिए, और उस मंदिर में रखी हुई भगवान की मूर्तियों और तस्वीरों की पूजा भक्त को सुबह-शाम करनी चाहिए. जैसा कि आप जानते ही होंगे कि घर में मंदिर होने से सकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश होता है और ऐसा कहा भी गया है जिस घर में मंदिर होता है उस घर का पूरा परिवार हमेशा खुशहाल रहता है. इसलिए आज हम आपको कुछ बातें बताएंगे जिसे आपको मानना चाहिए और जिन बातों को ध्यान में रखकर ही घर में मंदिर बनवाएं.

1. वास्‍तु के अनुसार, घर में पूजाघर हमेशा पूर्व या उत्‍तर दिशा में ही बनवाना चाहिए इससे आपके सभी काम पूरे होंगे और आपको सकारात्मक ऊर्जा भी मिलेगी.

2. अगर आपके घर में मंदिर पश्चिम या दक्षिण दिशा में है तो ये अशुभ माना जाता है और आपके घर में अशुभ फलों का आना शुरु हो जाता है.

3. घर में बने मंदिर या पूजाघर के ऊपर या फिर आस-पास शौचालय नहीं होना चाहिए, ये बुरे संकेत लाते हैं.

4. मंदिर को रसोईघर में बनाना भी वास्‍तु के हिसाब से बिल्कुल गलत माना जाता है. पूजाघर का स्थान अलग ही होना चाहिए.

5. घर में खिड़की और दरवाजे ज्यादातर उत्तर दिशा में ही होने चाहिए. घर की बालकनी व वॉश बेसिन भी इसी दिशा में बने हों तो बहुत अच्छा होता है. वास्तु के अनुसार, इससे धन की हानि व करियर में आने वाली बाधाएं दूर होती हैं.

6. किसी को भी सीढ़ी या किसी तहखाने में घर का मंदिर नहीं बनवाना चाहिए. ऐसा करने से आपके द्वारा की हुई पूजा असफल रह जाती है.

7. अगर आपके घर में दो परिवार रह रहे हैं तो उन दोनों को अलग-अलग मंदिर नहीं बनवाना चाहिए. ऐसा करने से घर के सदस्य को मानसिक, शारीरिक और आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ता है.

8. वास्तु के हिसाब से किसी को भी मंदिर के सामने पैर नहीं करना चाहिए और ना ही उस तरफ पैर करके ही सोना चाहिए.

9. अगर आपके पूजा घर में एक ही भगवान की तस्वीरें दो हैं तो उन्हें कभी आमने-सामने नहीं रखना चाहिए. इसके अलावा मूर्तियों को एक दूसरे से एक इंच की दूरी पर रखें.