Home Uncategorized सावन में अर्पित करें शिव के प्रिय ये 5 पत्ते, दूर होंगें...

सावन में अर्पित करें शिव के प्रिय ये 5 पत्ते, दूर होंगें संकट, जीवन होगा धन धान्य से परिपूर्ण

हिंदू धर्म में सावन के महीने को बहुत ही पवित्र माना जाता है सावन का महीना भोलेनाथ को समर्पित है भोले शंकर के भक्त इस महीने में भगवान भोलेनाथ की पूजा अर्चना बड़ी ही धूमधाम के साथ करते हैं और श्रद्धालु शिवलिंग पर भोलेनाथ को जल अर्पित करते हैं और इसके साथ ही कई चीजों को भी चढ़ाया जाता है इन चीजों में से भगवान शिव जी को बेलपत्र बहुत ही प्रिय है जिसका जिक्र शिवपुराण में भी कई जगह किया गया है भोले बाबा के भक्त इनको प्रसन्न करने के लिए सावन के महीने में बेलपत्र अर्पित करना बिल्कुल भी नहीं भूलते हैं।

क्या आपको इस बात की जानकारी है की बेलपत्र के अलावा भी शिव जी को पांच दूसरे अन्य पत्ते बहुत ही प्रिय है अगर आप इन पत्तों को शिवलिंग पर चढ़ाते हैं तो आपके सभी संकट दूर होंगे और भगवान भोलेनाथ की कृपा आपके ऊपर बनी रहेगी आज हम आपको इस लेख के माध्यम से इस सावन भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए बेलपत्र के साथ कौन से पत्ते अर्पित करना चाहिए जिससे भगवान भोलेनाथ प्रसन्न हो जाए इसके बारे में जानकारी देने वाले हैं।

आइए जानते हैं भगवान भोलेनाथ के प्रिय 5 पत्तों के बारे में

भांग

भांग का पत्ता भगवान भोलेनाथ को बहुत ही प्रिय है अगर आप भगवान भोलेनाथ को भांग का पत्ता या भांग का शरबत बनाकर अर्पित करते हैं तो इससे भगवान भोलेनाथ आपसे प्रसन्न होंगे भांग एक औषधि भी है ऐसा कहा जाता है जब शिवजी ने विष का पान किया था तब जहर का उपचार करने के लिए भांग के पत्तों का इस्तेमाल किया गया था इसीलिए भगवान भोलेनाथ भांग के पत्ते से अधिक प्रसन्न होते हैं।

धतूरा

दरअसल, धतूरे का फल और धतूरे का पत्ता औषधि के रूप में भी प्रयोग किया जाता है शिवपुराण में इस बात का उल्लेख किया गया है कि शिव को धतूरा बहुत ही प्रिय है जो व्यक्ति भगवान भोलेनाथ को धतूरा अर्पित करता है उसको भोलेनाथ धन धान्य से परिपूर्ण करते हैं उनके जीवन में धन की कभी कोई कमी नहीं होती है।

आक

भगवान भोलेनाथ को आक का फूल और आक का पत्ता दोनों ही बहुत प्रिय है ऐसा कहा जाता है कि जो भक्त भगवान भोलेनाथ को आक अर्पित करता है उस व्यक्ति के मानसिक और शारीरिक कष्ट को भगवान भोलेनाथ दूर करते हैं इसके अलावा भगवान भोलेनाथ उस व्यक्ति की निर्धनता भी समाप्त करते हैं।

पीपल का पत्ता

पुराणों में इस बात का उल्लेख किया गया है कि पीपल के पेड़ पर त्रिदेवों का वास रहता है पीपल के पत्तों पर भगवान शिव विराजमान होते हैं इसलिए जो भक्त भगवान भोलेनाथ को पीपल का पत्ता अर्पित करता है उस व्यक्ति के जीवन से शनि का प्रकोप दूर होता है।

दूर्वा

पुराणों में इस बात का उल्लेख किया गया है कि दूर्वा में अमृत बसा हुआ है भगवान भोलेनाथ को और उनके पुत्र गणेश जी को दूर्वा बहुत ही पसंद है यदि भगवान भोलेनाथ को दूर्वा अर्पित किया जाए तो इससे अकाल मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है।