श्री कृष्ण कहते है जिसकी नींद सुबह 3 से 5 के बीच खुलती है उन्हें मिलते है ये संकेत

रात्रि 3 से 5 बजे के मध्य खुलती है  नींद तो यह दिव्य शक्ति का कोई संकेत है कोई दिव्य शक्ति (divine power) आपको संदेश देना चाहते हैं आपको कुछ समझाना चाहते हैं सबसे पहले हम यह जाने जिस समय नींद खुल रही है वह अमृतवेला है। अमृतवेला जो कि परमात्मा की दिव्य शक्तियां बहुत ही तेजी से प्रवाह कर रही होती है।

 

ब्रह्म मुहूर्त या अमृत वेला क्या है

ब्रह्म मुहूर्त या अमृत वेला क्या है। ब्रह्म मुहूर्त रात का अंतिम प्रहर का तीसरा भाग होता है। धर्म शास्त्रों में नींद के त्याग का यही श्रेष्ठ समय बताया गया है। ब्रह्म का आशय हुआ परम तत्व। मुहूर्त का आशय हुआ अनुकूल समय। ब्रह्म मुहूर्त को अमृत वेला भी कहते है। अमृत को आशय होता है, जो जीव को अमरता प्रदान करे, वेला का मतलब होता है समय। अमृत वेला का अर्थ हुआ चिरंजीवी बनाने या अमरता प्रदान करने वाला समय। इस समय में कुछ देर भी किया गया योगाभ्यास आत्मा को उस आत्मिक आनंद की अनुभूति करा देता है, जो आनंद की अनुभूति अमृत पीने वाले को होती है। अमृतवेला अर्थात वह वेला, जब स्वयं भगवान अपने भक्तो को अमृत पिलाने आता है और उस अमृत को जो नहीं पी पाता, उसे परमानंद की प्राप्ति नहीं होती है।

अमृत वेला के समय इस आसमान में, सृष्टि में पॉजिटिव वाइब्रेशन  बहुत तेजी से उस समय प्रवाहित होती रहती है क्योंकि नेगेटिव वाइब्रेशन(negative vibaration) उस समय सो रही होती है पॉजिटिव वाइब्रेशन उस समय जाग रही होती है।

रात के 3:00 बजे क्यों नहीं उठाना चाहिए? ये सवाल ही गलत है क्युकी 3 से 5 सुबह ब्रह्म मुहर्त का समय होता है। जब आपका मन बिलकुल शांत चित से आसानी से एकाग्र हो सकता है। या इस समय आप भगवान से जुड़ सकते है या अपनी अच्छी विचारो को अपने जीवन में कैसे उतरना है उसका चिन्तन कर सकते है।

 

पॉजिटिव वाइब्रेशन उस समय जाग रही इसका क्या मतलब हुआ

इसका ये मतलब है 3 se 5 भगवान की दिव्य शक्तिया विचरण कर रही होती है। उस समय आप जाप करते और भगवान का ध्यान करते है तो उनकी कृपा आपको बहुत ही आसानी से मिल जाती है। रात 3 से 5 बजे नींद खुलने का क्या मतलब है ? सृष्टि चाहती हैं ,आपके गुरु चाहते हैं आपके इष्ट चाहते हैं दिव्यशक्ति चाहती हैं कि आप उठे आप परमात्मा का स्मरण करें आप परमात्मा का जाप करें क्योंकि बहुत सारी शक्तियां आपके इंतजार कर रही है जो कि आपको मिलनी है।

 

यह शक्तियां क्या है

यह शक्तियां पॉजिटिव वाइब्रेशन से भरी हुई जो आप को तंदुरुस्त कर देंगे धन धान्य से परिपूर्ण कर देंगे भक्ति से भर देंगी यदि आप सुबह उठते हैं पाठ पूजा करते हैं तो बहुत सारी शक्तियों का बास आपकी शरीर में होने लगता है। यह सारे संकेत दिव्य शक्ति दे रही है ये दिव्या शक्तियां परमात्मा है। जो चाहते है आप सुबह उठे।